नई पोस्ट करें

लगातार बढ़ती जा रही है वीर दास के चाहने वालों की लिस्ट, ट्विटर पर फॉलोअर्स ने पार किया ये आंकड़ा

2022-10-08 00:10:57 589

लगातारबढ़तीजारहीहैवीरदासकेचाहनेवालोंकीलिस्टट्विटरपरफॉलोअर्सनेपारकियायेआंकड़ाDelhi news : 'मनीष सिसोदिया को गिरफ्तार करने की साजिश, ढूंढे जा रहे हैं बहाने', सीबीआई जांच पर बोले केजरीवाल******Highlightsदिल्ली में शराब नीति की सीबीआई जांच (CBI Inquiry )के लेफ्टिनेंट गवर्नर के आदेश पर अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि मनीष सिसोदिया को फंसाने की साजिश हो रही है। ये लोग मनीष सिसोदिया को गिरफ्तार करना चाहते हैंऔर गिरफ्तारी के लिए कुछ बहाने तलाशे जा रहे हैं।अब नया सिस्टम चल पड़ा है-केजरीवालकेजरीवाल ने कहा कि अब नया सिस्टम चल पड़ा है, उन्होंने कहा- 'पहले यह तय किया जाता है कि किस आदमी को जेल भेजना है, फिर झूठा केस बनाया जाता है और फिर जेल भेजा जाता है।यह नया सिस्टम चला है। पूरा का पूरा केस बिल्कुल झूठा है, रत्ती भर की सच्चाई नहीं है। मनीष सिसोदिया को 22 साल से मैं जानता हूं। वह कट्टर ईमानदार और देशभक्त आदमी है।मनीष सिसोदिया ने सरकारी स्कूलों की दशा बदल दी-केजरीवालकेजरीवाल ने कहा- 'देश में 75 साल में सरकारी स्कूलों का बेड़ा गर्क कर दिया था सब पार्टियों ने मिलकर और यहां के बच्चों का भविष्य अंधकारमय था। कोई उम्मीद नहीं थी। ऐसे में मनीष सिसोदिया ने दिन-रात मेहनत करके दिल्ली के स्कूलों की दशा ठीक कर दी। अब अमीर लोग भी अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में पढ़ने के लिए भेजते हैं।हम जेल जाने से नहीं डरते-केजरीवालकेजरीवाल ने कहा-'हम जेल जाने से डरनेवाले नहीं हैं। सत्येंद्र जैन को झूठे केस में गिरफ्तार किया अब मनीष सिसोदिया को गिरफ्तार करना चाहते हैं।' केजरीवाल ने कहा- आप जानते हैं कि आम आदमी पार्टी को ये लोग क्यों परेशान कर रहे हैं? इसके तीन मुख्य कारण है।अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पहले दिल्ली में हेल्थ और एजुकेशन के क्षेत्र में जबर्दस्त काम हुआ है। पहले दिल्ली के हेल्थ मिनिस्टर और अब एजुकेशन मिनिस्टर को फंसाने की साजिश हो रही है।

लगातारबढ़तीजारहीहैवीरदासकेचाहनेवालोंकीलिस्टट्विटरपरफॉलोअर्सनेपारकियायेआंकड़ाDiesel Export पर सरकार द्वारा Tax बढ़ाने से जुलाई में भारत का डीजल निर्यात 11 प्रतिशत घटा******Highlightsपेट्रोल-डीजल निर्यात पर सरकार द्वारा अप्रत्याशित लाभ कर लगाए जाने के बाद जुलाई में भारत का डीजल निर्यात 11 प्रतिशत घट गया, वहीं पेट्रोल का निर्यात 4.5 प्रतिशत कम रहा। आधिकारिक आंकड़ों से यह जानकारी मिली। पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय के पेट्रोलियम योजना एवं विश्लेषण प्रकोष्ठ (पीपीएसी) के आंकड़ों के मुताबिक, जुलाई में डीजल निर्यात घटकर 21.8 लाख टन रह गया जो इसके पिछले महीने 24.5 लाख टन था। इसी तरह पेट्रोल निर्यात जो जून में 11.6 लाख टन था, जुलाई में गिरकर 11 लाख टन रह गया। भारत में अप्रत्याशित लाभ कर पहली बार एक जुलाई को लगाया गया था।पेट्रोल और विमान ईंधन एटीएफ पर छह रुपये प्रति लीटर की दर से कर लगाया गया था और डीजल पर यह 13 रुपये प्रति लीटर था। इन करों में 20 जुलाई, दो अगस्त और 19 अगस्त को संशोधन किया गया। अब पेट्रोल से कर खत्म कर दिया गया है, जबकि डीजल के लिए यह सात रुपये प्रति लीटर और विमान ईंधन के लिए दो रुपये प्रति लीटर है। जुलाई में भारत ने 46.8 लाख टन पेट्रोलियम उत्पादों का निर्यात किया जिसमें से 82 प्रतिशत पेट्रोल, डीजल और विमान ईंधन था। पीपीएसी के आंकड़ों के मुताबिक, विमान ईंधन का निर्यात भी जुलाई में मामूली रूप से कम होकर 5,83,000 टन रहा है जो जून में 5,91,000 टन था।स्थानीय तेल उत्पादकों पर लगने वाले अप्रत्याशित लाभ कर में कटौती उम्मीद के मुताबिक है, लेकिन ऐसा अनुमान नहीं था कि विमान ईंधन (एटीएफ) और डीजल निर्यात पर कर में वृद्धि की जाएगी क्योंकि स्थानीय बाजारों में इनकी अच्छी आपूर्ति हो रही है। विश्लेषकों ने शुक्रवार को यह राय जताई। सरकार ने अप्रत्याशित लाभ कर की तीसरे पखवाड़े की समीक्षा में डीजल के निर्यात पर कर पांच रुपये प्रति लीटर से बढ़ाकर सात रुपये प्रति लीटर कर दिया है, वहीं विमान ईंधन के निर्यात पर फिर दो रुपये प्रति लीटर का कर लगाया गया है। घरेलू स्तर पर उत्पादित कच्चे तेल पर कर को 17,750 रुपये प्रति टन से घटाकर 13,000 रुपये प्रति टन किया गया है। इस महीने की शुरुआत में सरकार ने विमान ईंधन के निर्यात पर अप्रत्याशित लाभ कर खत्म कर दिया था। सरकार ने एक जुलाई को पेट्रोल और एटीएफ पर छह रुपये प्रति लीटर तथा डीजल पर 13 रुपये प्रति लीटर का निर्यात शुल्क लगाया था। इसके अलावा कच्चे तेल के घरेलू उत्पादन पर 23,250 रुपये प्रति टन का अप्रत्याशित लाभ कर लगाया गया था। उस समय वित्त मंत्रालय ने कहा था कि हर पखवाड़े कर की समीक्षा की जाएगी। पहले पखवाड़े की समीक्षा के बाद, 20 जुलाई को सरकार ने पेट्रोल के निर्यात पर छह रुपये प्रति लीटर की दर से लागू निर्यात शुल्क को खत्म कर दिया था। वहीं डीजल एवं एटीएफ के निर्यात पर लगने वाले कर में दो-दो रुपये की कटौती कर इसे क्रमशः 11 रुपये एवं चार रुपये प्रति लीटर कर दिया गया था।लगातारबढ़तीजारहीहैवीरदासकेचाहनेवालोंकीलिस्टट्विटरपरफॉलोअर्सनेपारकियायेआंकड़ायोगी सरकार में मंत्री विजय कश्यप का कोरोना से निधन, पीएम मोदी ने जताया शोक******उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री तथा भाजपा विधायक विजय कश्यप का मंगलवार को कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से गुड़गांव के एक अस्पताल में निधन हो गया। मुजफ्फरनगर के चरथावल विधानसभा सीट से विधायक कश्यप ने गुड़गांव के मेदांता अस्पताल में अंतिम सांस ली। कश्यप योगी सरकार में राजस्व एवं बाढ़ नियंत्रण राज्यमंत्री थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा नेता के निधन पर शोक जताते हुए कहा कि वह लोक हित के कार्यों के लिए समर्पित थे। मोदी ने ट्वीट किया, “ भाजपा नेता और उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री विजय कश्यप जी के निधन से अत्यंत दुख हुआ है। वे जमीन से जुड़े नेता थे और सदा जनहित के कार्यों में समर्पित रहे। शोक की इस घड़ी में उनके परिजनों और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं। ओम शांति!।”उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी राजस्व एवं बाढ़ नियंत्रण राज्यमंत्री विजय कुमार कश्यप के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि विजय कुमार कश्यप एक लोकप्रिय जनप्रतिनिधि थे। सीएम योगी ने कहा कि प्रदेश सरकार के मंत्री के रूप में उन्होंने सदैव अपने दायित्वों का कुशलपूर्वक निर्वहन किया। उनके निधन से जनता ने अपना एक सच्चा हितैषी खो दिया है। मुख्यमंत्री योगी ने दिवंगत आत्मा की शान्ति की कामना करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।

लगातार बढ़ती जा रही है वीर दास के चाहने वालों की लिस्ट, ट्विटर पर फॉलोअर्स ने पार किया ये आंकड़ा

लगातारबढ़तीजारहीहैवीरदासकेचाहनेवालोंकीलिस्टट्विटरपरफॉलोअर्सनेपारकियायेआंकड़ाMadhya Pradesh: भिंड में तीन पत्रकारों के खिलाफ FIR, बूढ़े पिता को ठेले पर अस्पताल ले जाने वाली खबर जांच में निकली गलत******Madhya Pradesh: मध्य प्रदेश में भिंड पुलिस ने एम्बुलेंस के अभाव में एक परिवार द्वारा एक बुजुर्ग व्यक्ति को ठेले पर ले जाने वाली खबर प्रकाशित करने को लेकर तीन पत्रकारों के खिलाफ जालसाजी का मामला दर्ज किया है। दबोह पुलिस थाने के हेड कांस्टेबल कमलेश कुमार ने सोमवार को बताया कि स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सा अधिकारी राजीव कौरव की शिकायत के बाद पत्रकार कुंजबिहारी कौरव, अनिल शर्मा और एन. के भटेले के खिलाफ 18 अगस्त को एक प्राथमिकी दर्ज की गई। उन्होंने बताया कि तीनों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता(IPC)की धारा 420 और 505 तथा सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम(IT Act)के प्रासंगिक प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया गया है।प्राथमिकी(FIR) के अनुसार, शिकायतकर्ता ने कहा कि इन पत्रकारों ने 15 अगस्त को एक समाचार प्रकाशित और प्रसारित किया कि गया प्रसाद (76) के परिवार को उन्हें एक ठेले पर अस्पताल ले जाना पड़ा, क्योंकि उन्हें एम्बुलेंस उपलब्ध नहीं कराई गई और पीड़ित को सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिला। प्राथमिकी में कहा गया है कि समाचार के प्रकाशन और प्रसारण के बाद, जिला प्रशासन ने समाचार की जांच के लिए राजस्व एवं स्वास्थ्य अधिकारियों की एक समिति गठित की।प्राथमिकी के अनुसार, समिति ने समाचार गलत पाया, क्योंकि प्रसाद के बेटे पूरन सिंह ने कहा कि उन्होंने एम्बुलेंस के लिए कॉल नहीं की। उनके पिता एवं परिवार को वृद्धावस्था पेंशन जैसी सरकारी योजनाओं का लाभ मिल रहा है। प्राथमिकी के मुताबिक, इसके अलावा गया प्रसाद के परिजन उन्हें सरकारी अस्पताल नहीं, बल्कि एक निजी अस्पताल ले गए थे।एक न्यूज चैनल के लिए काम करने वाले अनिल शर्मा ने आरोप लगाया कि जिला प्रशासन ने गया प्रसाद के परिवार के सदस्यों को सरकारी योजना का लाभ रोकने की धमकी देकर उन पर दबाव बनाया। उन्होंने दावा किया कि झूठे आधार पर प्राथमिकी दर्ज की गई है। इस बीच, मध्य प्रदेश विधानसभा में विपक्ष के नेता डॉ.गोविंद सिंह ने यह भी आरोप लगाया कि जिला प्रशासन ने गया प्रसाद के परिवार पर पत्रकारों के खिलाफ गलत बयान देने का दबाव बनाया। उन्होंने कहा कि यह मीडिया की आवाज को दबाने की कार्रवाई है और कांग्रेस इन पत्रकारों को न्याय दिलाने के लिए संघर्ष करेगी।सत्तारूढ़ भाजपा की प्रदेश कार्य समिति के सदस्य रमेश दुबे ने भी पत्रकारों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की कार्रवाई की निंदा की और दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। मामले में प्रतिक्रिया के लिए भिंड जिला कलेक्टर सतीश कुमार एस से संपर्क नहीं हो सका।लगातारबढ़तीजारहीहैवीरदासकेचाहनेवालोंकीलिस्टट्विटरपरफॉलोअर्सनेपारकियायेआंकड़ाPitru Paksha 2020: जानें कौन-कौन लोग कर सकते हैं श्राद्ध******पितृ पक्ष 1 सितंबर से 17 सितंबर तक है। इस दौरान पूर्वजों का तर्पण किया जाता है। जिन लोगों का स्वर्गवास किसी भी महीने के कृष्ण या शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को हुआ हो, उन लोगों का श्राद्ध 1 सिंतबर के दिन किया जायेगा। जिन लोगों को अपने पितरों की तिथि याद न हो, वे लोग पितृपक्ष की अमावस्या को श्राद्ध-कर्म कर सकते हैं। इस तरह श्राद्ध करने से आपको विशेष फल तो प्राप्त होंगे ही, साथ ही आपको पितृदोष से भी छुटकारा मिलेगा।दरअसल शास्त्रों में पितृदोष को सबसे बड़ा दोष माना गया है । कुण्डली का नौंवा घर धर्म और पिता का होता है । यदि इस घर में राहु, केतु और मंगल अपनी नीच राशि में बैठे हैं, तो यह आपकी कुंडली में पितृदोष होने का संकेत है। पितृदोष के कारण मानसिक पीड़ा, अशांति, धन की हानि, गृह-क्लेश जैसी परेशानियां होती है। पिण्डदान और श्राद्ध नहीं करने वालों के साथ-साथ पितृदोष उनकी संतान की कुण्डली में भी बनता है और अगले जन्म में वह भी पितृदोष से पीड़ित होता है, लेकिन श्राद्ध कार्य करने से पितृदोष से मुक्ति मिलती है। साथ ही आपका भाग्योदय होता है। जानिए श्राद्ध करने का अधिकार किसे-किसे है।लगातारबढ़तीजारहीहैवीरदासकेचाहनेवालोंकीलिस्टट्विटरपरफॉलोअर्सनेपारकियायेआंकड़ाChennai News: इंडिगो से दुबई जा रहा था परिवार, विमान रोकने के लिए दिया बम का फर्जी मैसेज******Highlightsचेन्नई में नशे में धुत एक व्यक्ति, जो अपने परिजनों को विदेश जाने से रोकना चाहता था, उसने शनिवार को फोन कर निजी विमानन कंपनी इंडिगो की दुबई जाने वाली फ्लाइट में बम होने की फर्जी सूचना दी थी। हवाई अड्डे के अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि चेन्नई का रहने वाला ये शख्स अपने परिवार के दो सदस्यों को दुबई जाने से रोकना चाहता था, जिसके चलते उसने पुलिस कंट्रोल रूम में विमान में बम होने की धमकी वाला फोन कॉल किया।चेन्नई एयरपोर्ट के अधिकारियों के मुताबिक, फोन कॉल आने के बाद सुरक्षा एजेंसियों ने यह पता लगाने के लिए गहराई से जांच की कि क्या इंडिगो के विमान में कोई विस्फोटक रखा गया है। उन्होंने बताया कि हालांकि विमान में ऐसी कोई चीज नहीं मिली, जिससे अधिकारियों और अन्य लोगों ने राहत की सांस ली। अधिकारियों के अनुसार, बम की धमकी वाले फोन के कारण जिस विमान को सुबह 7.20 बजे रवाना होना था, उसने जांच के बाद दिन में अपने गंतव्य के लिए उड़ान भरी। अधिकारियों ने बताया कि जांच के बाद फोन करने वाले व्यक्ति की पहचान कर ली गई, जिसने अपने परिवार के दो सदस्यों को दुबई जाने से रोकने के लिए नशे में धुत होकर यह कदम उठाया था। अधिकारियों के मुताबिक, उक्त व्यक्ति को हिरासत में ले लिया गया है। उन्होंने बताया कि विमान से 180 यात्रियों को दुबई की उड़ान भरनी थी।करीब एक हफ्ते पहले ही तमिलनाडु के सलेम जिले में 57 साल के एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया था। इस शख्स ने कथित तौर पर शराब के नशे में, मेट्टूर बांध को बम से उड़ाने की फर्जी सूचना दी थी। चेन्नई में पुलिस कंट्रोल रूम को पिछले शुक्रवार को एक कॉल आयी जिसमें कहा गया कि बांध पर बम रखा गया जिसमें विस्फोट होने वाला है। इसके बाद कॉल काट दी गई। फोन कॉल के आधार पर सलेम और कोयंबटूर पुलिस ने अलर्ट जारी कर दिया। पुलिस ने बताया कि बम निरोधक दस्ता तत्काल मेट्टूर पहुंचा और रातभर स्टेनली जलाशय के अंदर और बाहर तलाशी ली और पूरे क्षेत्र में सुरक्षा बढ़ा दी। पुलिस ने बताया कि पता चला कि कॉल मेचेरी से की गई थी जो मेट्टूर से करीब 15 किलोमीटर दूर स्थित है। पुलिस को पता चला कि 57 साल के महालिंगम ने कॉल की थी जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

लगातार बढ़ती जा रही है वीर दास के चाहने वालों की लिस्ट, ट्विटर पर फॉलोअर्स ने पार किया ये आंकड़ा

लगातारबढ़तीजारहीहैवीरदासकेचाहनेवालोंकीलिस्टट्विटरपरफॉलोअर्सनेपारकियायेआंकड़ाGold price today 12 march 2021: शिवरात्री के बाद सोना हुआ सस्‍ता, चांदी में आई भारी गिरावट******Gold price today 12 march 2021 check 22 carat 24 carat delhi mumbai chennai kolkata statewise rate listशिवरात्री के अवकाश के बाद शुक्रवार को राष्‍ट्रीय राजधानी में सोना 291 रुपये घटकर 44,059 रुपये प्रति दस ग्राम रह गया। एचडीएफसी सिक्‍यूरिटीज के मुताबिक सोने की अंतरराष्‍ट्रीय कीमतों में गिरावट आने और रुपये के मूल्‍य में वृद्धि से घरेलू बाजार में भी कीमती धातुओं में कमजोरी देखने को मिली है। इससे पहले कारोबार सत्र में सोना 44,350 रुपये प्रति दस ग्राम पर बंद हुआ था। चांदी में भी भारी गिरावट आई है। चांदी 1096 रुपये टूटकर 65,958 रुपये प्रति किलोग्राम रह गई, जबकि पिछले कारोबार सत्र में यह 67,054 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई थी। शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में भारतीय रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 20 पैसे मजबूती के साथ 72.71 पर कारोबार कर रहा था।अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में, सोना और चांदी दोनों कमजोरी के साथ क्रमश: 1707 डॉलर प्रति औंस और 25.67 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार कर रहे थे। एचडीएफसी सिक्‍यूरिटीज के वरिष्‍ठ विश्‍लेषक तपन पटेल (जिंस) ने कहा कि डॉलर में रिवकरी के साथ शुक्रवार को सोने की कीमतों में कमजोरी का रुख देखने को मिला। कमजोर हाजिर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों की कटान की जिससे वायदा कारोबार में शुक्रवार को सोना 0.81 प्रतिशत की गिरावट के साथ 44,517 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गया। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में अप्रैल महीने में डिलिवरी वाले सोना वायदा की कीमत 362 रुपये यानी 0.81 प्रतिशत की गिरावट के साथ 44,517 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गई। इसमें 11,004 लॉट के लिये कारोबार किया गया। अंतरराष्ट्रीय बाजार, न्यूयॉर्क में सोना 0.88 प्रतिशत की गिरावट के साथ 1,707.50 डॉलर प्रति औंस चल रहा था। कमजोर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों के आकार को घटाया जिससे वायदा बाजार में शुक्रवार को चांदी वायदा कीमत 776 रुपये की गिरावट के साथ 66,769 रुपये प्रति किलो रह गयी। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में चांदी के मई महीने में डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 776 रुपये यानी 1.15 प्रतिशत की तेजी के साथ 66,769 रुपये प्रति किलो रह गयी जिसमें 12,444 लॉट के लिये कारोबार हुआ। वैश्विक स्तर पर, न्यूयार्क में चांदी की कीमत 1.61 प्रतिशत की हानि के साथ 25.77 डॉलर प्रति औंस चल रहा था। मजबूत हाजिर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों के आकार को बढ़ाया जिससे वायदा बाजार में कच्चा तेल की कीमत शुक्रवार को एक रुपये की तेजी के साथ 4,795 रुपये प्रति बैरल हो गयी। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में मार्च महीने में डिलिवरी वाले कच्चा तेल अनुबंध की कीमत एक रुपये यानी 0.02 प्रतिशत की तेजी के साथ 4,795 रुपये प्रति बैरल हो गयी। इसमें 5,097 लॉट के लिये कारोबार हुआ। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि कारोबारियों द्वारा अपने सौदों का आकार बढ़ाने की वजह से वायदा कारोबार में कच्चातेल कीमतों में तेजी रही। वैश्विक स्तर पर, न्यूयॉर्क में वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट क्रूड का भाव 0.38 प्रतिशत की तेजी के साथ 65.57 डॉलर प्रति बैरल चल रहा था जबकि ब्रेंट क्रूड का भाव 0.17 प्रतिशत की गिरावट के साथ 69.51 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर था। हाजिर बाजार की कमजोर मांग के बीच सटोरियों ने अपने सौदों की कटान की जिससे वायदा कारोबार में शुक्रवार को एल्युमीनियम की कीमत 1.1 प्रतिशत की गिरावट के साथ 171 रुपये प्रति किग्रा रह गई। एमसीएक्स में एल्युमीनियम के मार्च महीने में डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 0.05 पैसे अथवा 1.1 प्रतिशत की गिरावट के साथ 171 रुपये प्रति किग्रा रह गई जिसमें 1,052 लॉट के लिए कारोबार हुआ। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि हाजिर बाजार में उपभोक्ता उद्योगों की कमजोर मांग की वजह से कारोबारियों ने अपने सौदों की कटान की जिससे यहां एल्युमीनियम वायदा कीमतों में गिरावट आई। घरेलू बाजार की कमजोर मांग के बीच कारोबारियों ने अपने सौदों की कटान करने से वायदा कारोबार में शुक्रवार को तांबा वायदा भाव 1.54 प्रतिशत की हानि के साथ 673.55 रुपये प्रति किलो रह गया। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में मार्च माह में डिलीवरी होने वाले अनुबंध के लिये तांबा का भाव 10.55 रुपये यानी 1.54 प्रतिशत की हानि के साथ 673.55 रुपये प्रति किलो रह गया। इसमें 3,342 लॉट के लिये सौदे किये गये। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि हाजिर बाजार की कमजोर मांग की वजह से सटोरियों द्वारा अपने सौदों की कटान करने से मुख्यत: तांबा वायदा कीमतों में हानि दर्ज हुई।हाजिर बाजार की कमजोर मांग के बीच कारोबारियों ने अपने सौदों की कटान की जिससे वायदा कारोबार में शुक्रवार को निकेल वायदा भाव 1.46 प्रतिशत की हानि के साथ 1,164.10 रुपये प्रति किलो रह गया। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में मार्च माह में डिलीवरी होने वाले अनुबंध के लिये निकेल का भाव 17.20 रुपये यानी 1.46 प्रतिशत की हानि के साथ 1,164.10 रुपये प्रति किलो रह गया। इसमें 2,148 लॉट के लिये सौदे किये गये। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि हाजिर बाजार की कमजोर मांग के कारण मुख्यत: निकेल वायदा कीमतों में हानि दर्ज हुई।लगातारबढ़तीजारहीहैवीरदासकेचाहनेवालोंकीलिस्टट्विटरपरफॉलोअर्सनेपारकियायेआंकड़ाफाइजर-मॉडर्ना की कोविड वैक्सीन से घटती है पुरुषों की प्रजनन क्षमता? स्टडी में पता चली बड़ी बात******अमेरिका और ब्रिटेन समेत दुनिया के कई देशों में दावा किया गया था कि फाइजर और मॉडर्ना की कोविड वैक्सीन से बच्चे पैदा करने की ताकत कम हो रही है जिसके बाद हाल में ही इस बात को लेकर एक अध्ययन किया गया। इस अध्ययन के नतीजे अब सामने आ गए हैं। अध्ययन में पाया गया है कि लोगों को टीके की दो खुराक लगने के बाद भी उनके शुक्राणुओं के स्तर पर प्रभाव नहीं पड़ा।फाइजर और मॉडर्ना के से पुरुषों की प्रजनन क्षमता को नुकसान नहीं होने का दावा करने वाले एक अध्ययन में पाया गया कि इसमें प्रतिभागी लोगों को टीके की दो खुराक लगने के बाद भी उनके शुक्राणुओं के स्तर पर प्रभाव नहीं पड़ा।‘जामा’ जर्नल में बृहस्पतिवार को प्रकाशित अध्ययन में 18 से 50 वर्ष के 45 स्वस्थ लोगों को शामिल किया गया जिन्हें फाइजर-बायोएनटेक और मॉडर्ना के एमएआरएनए कोविड-19 टीके लगने थे। इस अध्ययन में प्रतिभागियों की पूर्व में ही जांच कर यह भी पता लगाया कि उन्हें पहले से कोई प्रजनन संबंधी समस्या नहीं हो।इसमें 90 दिन पहले तक कोविड-19 से ग्रस्त हुए या उसके लक्षण वाले लोगों को शामिल नहीं किया गया। इसमें पुरुषों को टीके की पहली खुराक लगाये जाने से पहले उनके वीर्य के नमूने लिये गये और दूसरी खुराक के करीब 70 दिन बाद नमूने लिये गये।विश्व स्वास्थ्य संगठन के दिशानिर्देशों के अनुसार प्रशिक्षित विशेषज्ञों ने विभिन्न मानकों पर शुक्राणुओं की जांच की। अध्ययन के लेखकों में शामिल अमेरिका की मियामी यूनिवर्सिटी के एक अध्ययनकर्ता ने कहा, ‘‘टीका लगवाने में लोगों की हिचक का एक कारण प्रजनन क्षमता पर नकारात्मक असर होने की धारणा भी है।’’

लगातार बढ़ती जा रही है वीर दास के चाहने वालों की लिस्ट, ट्विटर पर फॉलोअर्स ने पार किया ये आंकड़ा

लगातारबढ़तीजारहीहैवीरदासकेचाहनेवालोंकीलिस्टट्विटरपरफॉलोअर्सनेपारकियायेआंकड़ाRajasthan: शर्मनाक! दलित लड़कियों के भोजन परोसने पर रसोइये ने जताई आपत्ति, बच्चों से फिंकवाया******Highlights राजस्थान के उदयपुर जिले के एक सरकारी स्कूल के रसोइए को दो दलित छात्राओं के साथ कथित रूप से भेदभाव करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने शनिवार को इसकी जानकारी दी।बारोड़ी क्षेत्र के एक सरकारी उच्च प्राथमिक विद्यालय में दलित छात्राओं ने शुक्रवार को लाला राम गुर्जर द्वारा पकाया गया मध्याह्न भोजन छात्रों को परोसा था। पुलिस ने बताया कि लालाराम ने इस पर आपत्ति जताई और भोजन कर रहे छात्रों से कहा कि वे इसे फेंक दें क्योंकि यह दलित छात्राओं ने परोसा है। छात्रों ने उसके कहने पर भोजन फेंक दिया। छात्राओं ने इस घटना के बारे में अपने परिजनों को बताया, जिसके बाद वे अपने कुछ रिश्तेदारों के साथ स्कूल पहुंचीं और रसोइए के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।पुलिस ने कहा, ‘‘अनुसूचित जाति-अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत गोगुंदा थाने में रसोइए के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।’’ पुलिस के अनुसार, ‘‘मामला सही पाए जाने पर त्वरित कार्रवाई की गई। छात्रों ने इसल‍िए खाना फेंक दिया क्योंकि दलित छात्राओं ने इसे परोसा था।’’ उन्होंने बताया, ‘‘रसोइया अपनी पसंद के उच्‍च जाति के छात्रों को खाना परोसने को कहता था। लेकिन लेकिन खाना ढंग से नहीं परोसे जाने की श‍िकायत के बाद एक शिक्षक ने शुक्रवार को दलित लड़कियों को खाना परोसने को कहा।’इससे पहले सुराणा गांव में पानी का मटका छूने पर एक प्राइवेट स्कूल के 9 वर्षीय छात्र इंद्र मेघवाल की 20 जुलाई को पिटाई की गई थी। इसके बाद अहमदाबाद के एक अस्पताल में शनिवार को उसकी मौत हो गई। राज्य के शिक्षा विभाग ने मामले की जांच शुरू कर दी है। जालोर के एसपी हर्षवर्धन अग्रवाल ने बताया कि लड़के को बुरी तरह से पीटा गया था। उन्होंने कहा कि बताया गया है कि पीने के पानी का बर्तन छूने के कारण बच्चे की पिटाई की गई। उन्होंने कहा कि इस मामले में अभी जांच की जानी है।बता दें, स्कूल टीचर छैल सिंह ने छात्र इंद्र को कान पर थप्पड़ मार दिया था, जिससे उसकी नस फट गई थी। वह कराहते हुए घर पहुंचा और पूरे मामले की जानकारी परिजनों को दी। इसके बाद पिता और अन्य परिवार वाले उसे हॉस्पिटल लेकर भागे। बागोड़ा, भीनमाल, डीसा, मेहसाणा, उदयपुर में इलाज कराया गया था, लेकिन शनिवार को उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। इसके बाद गांव में तनाव की स्थिति बनी हुई है। उधर, पुलिस ने SC-ST एक्ट और हत्या की धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज कर टीचर छैलसिंह को गिरफ्तार कर लिया है। इस मामले की गंभीरता से जांच की जा रही है।

लगातारबढ़तीजारहीहैवीरदासकेचाहनेवालोंकीलिस्टट्विटरपरफॉलोअर्सनेपारकियायेआंकड़ाUPSC NDA, NA (II) 2019 Result: यूपीएससी एनडीए एनए के मार्क्स किए गए जारी, ऐसे करें चेक****** संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) ने बुधवार को NDA, NA (II) परीक्षा 2019 में उत्तीर्ण उम्मीदवारों के मार्क्स जारी किए। उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट पर उनके द्वारा प्राप्त मार्क्स को upsc.gov.in पर देख सकते हैं। UPSC NDA NA (II) लिखित परीक्षा परिणाम 12 दिसंबर को घोषित किया गया था और अंतिम परिणाम 14 सितंबर को घोषित किया गया था। कुल 662 उम्मीदवार अनंतिम रूप से चयनित हैं।यूपीएससी ने 17 नवंबर को लिखित परीक्षा आयोजित की थी और इसके बाद के साक्षात्कार सेवा चयन बोर्ड, रक्षा मंत्रालय द्वारा 144 वें कोर्स के लिए राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के सेना, नौसेना और वायु सेना के विंग में प्रवेश के लिए और नौसेना अकादमी के लिए आयोजित किए गए थे। 106 वाँ भारतीय नौसेना अकादमी पाठ्यक्रम (INAC)। जिन उम्मीदवारों ने UPSC NDA, NA परीक्षा उत्तीर्ण की है, वे भारतीय सशस्त्र बलों में कमीशन प्राप्त करने के लिए प्रशिक्षण से गुजरेंगे।लगातारबढ़तीजारहीहैवीरदासकेचाहनेवालोंकीलिस्टट्विटरपरफॉलोअर्सनेपारकियायेआंकड़ाPetrol-Diesel Price Today: महंगा हुआ कच्चा तेल, आज सुबह घोषित हुईं पेट्रोल डीजल की ताजा कीमतें******Petrol Diesel Price दुनिया भर के बाजारों में तेल की कीमतों को लेकर मारामारी मची है। बीते सप्ताह 108 डॉलर प्रति बैरल के नीचे आई कच्चे तेल की कीमतों में एक बार फिर उछाल आया है। ब्रेंट क्रूड का रेट इस समय 111 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर चल रहा है। कच्‍चे तेल की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी की वजह से पेट्रोलियम कंपनियों पर भी दबाव बढ़ रहा है लेकिन भारत में अभी भी राहत का सिलसिला जारी है।सरकारी तेल कंपनियों ने सोमवार सुबह 6 बजे पेट्रोल-डीजल की कीमतों (Petrol-diesel price) की घोषणा। फिलहाल पेट्रोल डीजल के दाम में कोई बदलाव नहीं हुआ है। दिल्‍ली में पेट्रोल अब भी 96.72 रुपये और मुंबई में 109.27 रुपये लीटर बिक रहा है। देश में सबसे सस्ते पेट्रोल की बात करें तो यह पोर्ट ब्लेयर में है, जहां इसकी कीमत 84.10 रुपये है और डीजल ₹79.74 लीटर है। बीते साल नवंबर से दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 95.41 रुपये प्रति लीटर थी, जबकि डीजल 86.67 रुपये प्रति लीटर बिक रहा था। इसके बाद यूपी सहित 5 राज्यों में चुनाव खत्म होते ही कई बार पेट्रोल-डीजल के दामों में बदलाव देखने को मिला। रूस-यूक्रेन युद्ध के बाद देश में पेट्रोल-डीजल के दाम आसमान छूने लगे। 6 अप्रैल तक पेट्रोल-डीजल में करीब 10 रुपये का इजाफा हुआ। देश की राजधानी दिल्ली में 12 अप्रैल 2022 को पेट्रोल की कीमत (Delhi Petrol Price Today) 105.41 रुपए और डीजल (Delhi Diesel Price Today) 96.67 रुपए प्रति लीटर है। लेकिन 21 मई को केंद्र सरकार की पहल के बाद लोगों को एक बार फिर से राहत मिली।अगर आप पेट्रोल-डीजल के लेटेस्‍ट रेट चेक करना चाहते हैं तो इसके ल‍िए तेल कंपन‍ियां SMS के माध्‍यम से रेट चेक करने की सुविधा देती हैं। इंडियन ऑयल (IOC) के उपभोक्ता RSP<डीलर कोड> लिखकर 9224992249 नंबर पर व एचपीसीएल (HPCL) के उपभोक्ता HPPRICE <डीलर कोड> लिखकर 9222201122 नंबर पर भेज सकते हैं। बीपीसीएल (BPCL) उपभोक्ता RSP<डीलर कोड> लिखकर 9223112222 नंबर पर भेज सकते हैं।

लगातारबढ़तीजारहीहैवीरदासकेचाहनेवालोंकीलिस्टट्विटरपरफॉलोअर्सनेपारकियायेआंकड़ासुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन अजान के समय करेंगे, पर नियम राजनेताओं के लिए भी हो: मुस्लिम धर्मगुरु******दिल्ली दंगे, बुलडोजर एक्शन , महाराष्ट्र में लाउडस्पीकर से अजान विवाद जैसे देश और महाराष्ट्र में मुस्लिम समाज से जुड़े मौजूदा राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों को लेकर मुंबई के 'ऑल इंडिया खिलाफत कमिटी' ने मुस्लिम समाज के धर्मगुरु, वकील और राजनेताओं के साथ मुम्बई के भायखला के खिलाफत हाउस में बैठक की। इस बैठक में महाराष्ट्र में अजान के वक्त लाउडस्पीकर का विवाद साथ ही दिल्ली जहांगीर पूरी दंगो समेत देश के अन्य शहरों में जहां मुस्लिमों पर अन्याय-अत्याचार हो रहे उसपर चर्चा की गई। बैठक में ये भी प्रस्ताव पास हुआ कि जिन- जिन शहरों में मुसलमानों के मकान बुलडोजर से तोड़े जा रहे उन्हें मानवीय सहायता दी जाए, साथ ही कानूनी लडाई लड़ी जाए।बैठक में मुम्बई के कई मौलाना, उलेमा, कांग्रेस, एनसीपी, MIM,समाजवादी पार्टी के नेता , वकील, पत्रकार, सोशल एक्टिविस्ट मौजूद रहे । बैठक के बाद नेताओ ने लाउडस्पीकर और अजान के मुद्दे पर कहा कि महाराष्ट्र सरकार इस मुद्दे से निपटने में सक्षम है। कुछ लोग राजनीतिक फायदे के लिए माहौल बिगाड़ने की कोशिश कर रहे हैं। लाउडस्पीकर से अजान के मुद्दे पर मुस्लिम नेताओं और धर्मगुरुओं ने कहा कि वो सुप्रीम कोर्ट और पुलिस के आदेशों का पालन करेंगे। वही देश भर में मुस्लिमों को निशाना बनाया जा रहा है उसके खिलाफ कानूनी लड़ाई लड़ी जाएगी।मौलाना कश्मीरी ने कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन अजान के समय करेंगे पर नियम राजनेताओं के लिए भी हो। उनके रैलियों में सभाओं में लाउडस्पीकर पर बैन लगे या सुप्रीम कोर्ट ने जो डेसिबल तय किये उंसका पालन हो।वहीं बैठक में शामिल कई मौलानाओं का ने कहा कि मुस्लिमों के मॉरल को डाउन करने की कोशिश हो रही है। पूरे देश के प्रमुख मुस्लिम धर्मगुरुओं और शख्सियतों को बुलाकर देश में जो मुस्लिमों पर अत्याचार हो रहे उसपर चर्चा हो और एक्शन हो।वहीं भिवंडी ठाने से सपा विधायक रईस शेख ने कहा कि- 'महाराष्ट्र में हालात अच्छे है। आगे भी अच्छी रहेंगे। देश के हालात चिंताजनक है। हमे संभलकर बोलना है। सोशल मीडिया पर बार-बार वही उकसाने वाला बयान दिखाया जाता है।'एनसीपी नेता मजीद मेनन ने कहा कि- ' अजान का मामला जल्द सुलझ जाएगा। पर देश के हालात बिगड़े हैं। गैर बीजेपी शाषित राज्यों के मुख्यमंत्रियों को एक साथ लाने की कोशिश हो रही है। हो सकता है कि मुम्बई में ही ये मीटिंग हो। केंद्र सरकार से सिर्फ मुसलमान ही नही बल्कि गैर मुसलमान भी खफा हैं। आनेवाले दिनों में देशभर के मुस्लिम थिंक टैंक के साथ और भी बैठके की जाएगी।लगातारबढ़तीजारहीहैवीरदासकेचाहनेवालोंकीलिस्टट्विटरपरफॉलोअर्सनेपारकियायेआंकड़ाबाड़मेर में गिरा IAF का MiG-21 Bison लड़ाकू विमान, पायलट सुरक्षित****** राजस्थान के बाड़मेर में बुधवार को भारतीय वायुसेना (IAF) का MiG-21 Bison लड़ाकू विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया है। हादसे में पायलट को चोट आई है।हालांकि, वहसुरक्षित है। मिली जानकारी के अनुसार, पायलट ट्रेनिंग के लिए लड़ाकू विमान उड़ा रहा था और इसी दौरान हादसा हो गया।जमीन पर गिरते हीMiG-21 Bison लड़ाकू विमान के टुकड़े-टुकड़े हो गए और उसमें आग लग गई।यह घटना बाड़मेर में भुरटिया-मातासर सरहद पर हुई है। यहां पायलट ट्रेनिंग फ्लाइट के दौरान MiG-21 Bison लड़ाकू विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। पायलट के पैर में फ्रैक्चर होने की जानकारी मिली है।भारतीय वायुसेना ने बताया कि MiG-21 Bison लड़ाकू विमान में टेक ऑफ के बाद तकनीकी खराबी आई। वायुसेना ने ट्वीट किया, "आज शाम करीब 05:30 बजे वेस्टर्न सेक्टर में भारतीय वायुसेना के MiG-21 Bison विमान में प्रशिक्षण उड़ान भरने के बाद तकनीकी खराबी का आ गई।"भारतीय वायुसेना ने ट्वीट में आगे लिखा, "पायलट सुरक्षित बाहर निकल गया। कारणों (हादसे के) का पता लगाने के लिए कोर्ट ऑफ इंक्वायरी का आदेश दिया गया है।"

लगातारबढ़तीजारहीहैवीरदासकेचाहनेवालोंकीलिस्टट्विटरपरफॉलोअर्सनेपारकियायेआंकड़ाहिमांश कोहली का परिवार आया कोरोना वायरस की चपेट में, सोशल मीडिया पर दी जानकारी******अभिनेता हिमांशकोहली ने इस बात की जानकारी दी है कि उनके माता-पिता और उनकी बहन कोरोनावायरस से संक्रमित पाए गएहैं और सिर्फ वह ही इस महामारी की चपेट में आने से बचे रहे हैं।हिमांशने कहा, "घर में मैं इकलौता स्वस्थ इंसान हूं और मुझ पर दो जिम्मेदारी है, एक अपने परिवार की देखभाल करना और दूसरा कोविड संक्रमितों के क्लब में खुद को शामिल न करना। बेशक इसे मैनेज करना आसान नहीं है, लेकिन इस वक्त मेरे परिवार को मेरी सबसे ज्यादा जरूरत है और खुशकिस्मती से मुंबई रहने और घबराने की जगह मैं यहीं हूं।"हिमांशु ने बताया उनके परिवार के ये तीन सदस्य फिलहाल एक ही कमरे में साथ रह रहे हैं।अभिनेता ने कहा, "मैं एक अलग कमरे में रह रहा हूं। हमने अपने यहां काम करने वालों को भी एक अलग कमरा और एक अलग वॉशरूम दे रखा है। परिवार के किसी भी संक्रमित सदस्य को कमरे से बाहर आने या किसी दूसरे के वॉशरूम को यूज करने की इजाजत नहीं है। दरवाजे तक सारी सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं और हम हर दो घंटे में घर को सैनिटाइज कर रहे हैं।"(इनपुट-आईएएनएस)लगातारबढ़तीजारहीहैवीरदासकेचाहनेवालोंकीलिस्टट्विटरपरफॉलोअर्सनेपारकियायेआंकड़ाअमेजन की टक्कर में Flipkart लाई 72 घंटे की सेल, आधी से भी कम कीमत पर मिलेंगे प्रोडक्ट्स****** ई-कॉमर्स वेबसाइट्स 72वें स्‍वतंत्रता दिवस के अवसर पर ग्राहकों को आकर्षित करने का कोई मौका नहीं छोड़ना चाहती। एक तरफ जहां 9 अगस्‍त से 12 अगस्‍त तक Amazon Freedom Sale आयोजित कर रही है वहीं 10 अगस्‍त से 12 अगस्‍त तक की The Big Freedom Sale चलने वाली है। फ्लिपकार्ट की इस सेल में ग्राहकों को प्रोडक्ट्स पर 80% तक की छूट मिलेगी। Flipkart अपने The Big Freedom Sale में कंपनी ग्राहकों के लिए अलग-अलग ब्रांड्स और कैटेगरीज के प्रोडक्ट्स पर कई आकर्षक ऑफर्स ला रही है। फ्लिपकार्ट की इस सेल में ग्राहकों को हर 8 घंटे बाद ब्लॉकबस्टर डील मिलेगी। अगर सेल के दौरान कोई ग्राहक सिटी बैंक के क्रेडिट कार्ड से खरीदारी करता है तो उसे 10 फीसदी कैशबैक भी मिलेगा।फ्लिपकार्ट की यह सेल 10 अगस्‍त को रात 12 बजे से शुरू होगी। इस सेल में 10 तारीख की रात 12 बजे से 2 बजे तक 'Rush Hour' में भारी छूट मिलेगी। 'फ्रीडम काउंटडाउन' नाम की डील में 10 से लेकर 12 तारीख तक रोज शाम 7.47 बजे से 8.18 बजे तक 31 मिनट के लिए प्रोडक्ट्स की कीमतों में कमी रहेगी। साथ ही 'One Deal Every Hour' में सेल के दौरान हर घंटे एक नई डील लाई जाएगी। इस तरह से इस पर आपको 24 घंटों में 24 डील मिलेंगी।Flipkart की The Big Freedom Sale में हर श्रेणी के प्रोडक्ट पर अलग-अलग छूट मिल रही है। यहां आपको Samsung, Apple और Xiaomi के स्मार्टफोन्स पर भारी छूट मिल सकती है। फ्रीज, वाशिंग मशीन, मिक्स्चर जैसे घरेलू उपकरणों पर 70% तक की छूट मिलेगी। लैपटॉप, ऑडियो और कैमरे पर 80% तक का डिस्‍काउंट मिल सकता है। घरेलू फर्नीचर्स और साज-सज्जा के सामान पर भी 40% से 80% तक की छूट दी जाएगी।

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-07 23:16
उद्धरण 1 इमारत
Asia Cup 2022: जसप्रीत बुमराह से शाहीन अफरीदी तक, तीन प्रमुख टीमों के स्टार तेज गेंदबाज हुए टूर्नामेंट से बाहर******Highlightsउपमहाद्वीप के सबसे बड़े क्रिकेट टूर्नामेंट एशिया कप के 15वें संस्करण की शुरुआत 27 अगस्त 2022 से यूएई में होने जा रही है। इस संस्करण में 6 टीमें हिस्सा ले रही हैं। भारत, पाकिस्तान, श्रीलंका, बांग्लादेश और अफगानिस्तान पहले से ही इस टूर्नामेंट के मेन राउंड के लिए क्वालीफाई कर चुकी हैं। वहीं क्वालीफाइंग राउंड जारी है जिसमें कुवैत, यूएई, हॉन्ग कॉन्ग और सिंगापुर के बीच जंग चल रही है। इन चार में से एक टीम क्वालीफाई करेगी और सीधे भारत व पाकिस्तान के साथ ग्रुप-ए में पहुंच जाएगी।वहीं इस टूर्नामेंट से पहले एक बड़ा झटका तीन प्रमुख टीमें भारत, पाकिस्तान और श्रीलंका को लग चुका है। इन तीनों टीमों के अब प्रमुख-प्रमुख तेज गेंदबाज टूर्नामेंट से बाहर हो गए हैं। सबसे पहला झटका भारतीय टीम को लगा था जब टीम के स्टार तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को पीठ की समस्या के कारण टूर्नामेंट से बाहर होना पड़ा था। इसके बाद भारत को टी20 वर्ल्ड कप 2021 में परेशान करने वाले पाकिस्तानी पेसर शाहीन शाह अफरीदी भी इस टूर्नामेंट से बाहर हुए।जानकारी सामने आने के बाद पता चला कि अफरीदी के दहिने घुटने में इंजरी है जिसके चलते उन्हें टूर्नामेंट से बाहर होना पड़ा। उनकी जगह युवा पेसर मोहम्मद हसनैन को टीम में शामिल किया गया। भारतीय टीम में बुमराह की जगह आवेश खान को मौका मिला है। फिर 22 अगस्त सोमवार को श्रीलंका के प्रमुख तेज गेंदबाज दुश्मंता चमीरा भी पैर की पिंडली में चोट के कारण एशिया कप 2022 से बाहर हो गए। हालांकि, अभी टीम ने उनके रिप्लेसमेंट का ऐलान नहीं किया है। रोहित शर्मा (कप्तान), केएल राहुल, विराट कोहली, सूर्यकुमार यादव, ऋषभ पंत, दीपक हुड्डा, दिनेश कार्तिक, हार्दिक पंड्या, रवींद्र जडेजा, रविचंद्रन अश्विन, युजवेंद्र चहल, रवि बिश्नोई, भुवनेश्वर कुमार, अर्शदीप सिंह, आवेश खान।: श्रेयस अय्यर, अक्षर पटेल, दीपक चाहर।- बाबर आजम (कप्तान), शादाब खान, आसिफ अली, फखर जमान, हैदर अली, हारिस रऊफ, इफ्तिखार अहमद, खुशदिल शाह, मोहम्मद नवाज, मोहम्मद रिजवान, मोहम्मद वसीम जूनियर, नसीम शाह, मोहम्मद हसनैन, शाहनवाज दहानी, उस्मान कादिर।: दासुन शनाका (कप्तान), धनुषका गुनातिलका, पथुम निसंका, कुसल मेंडिस, चरित असालंका, बानुका राजपक्षे, आशेन बंडारा, धनंजया डी सिल्वा, वनिदु हसरंगा, महेश थीक्षाना, जेफ़री वांडरसे, प्रवीण जयविक्रेमा, दुष्मंथा चमीरा (चोट के चलते बाहर), बिनुरा फर्नांडो, चामिका फर्नांडो, मदुशंका, मथीशा पथिराना, दिनेश चांदीमल, नुवानिंदु फर्नांडो और कसुन रजिता।
2022-10-07 23:06
उद्धरण 2 इमारत
Rajat Sharma’s Blog : शिंजो आबे की मौत से भारत ने अपना एक अच्छा दोस्त खो दिया******जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे के निधन से भारत ने एक अच्छे दोस्त को खो दिया है। शिंजो आबे की शुक्रवार को जापान की प्राचीन राजधानी नारा में हत्या कर दी गई। रेलवे स्टेशन के पास चुनाव प्रचार के दौरान एक सिरफिरे ने उन्हें गोली मार दी। जब ये खबर आई तो पहले यह यकीन ही नहीं हुआ। क्योंकि अमूमन जापान से इस तरह की खबरें नहीं आती हैं। वहां इस तरह से राजनीतिक हत्याएं नहीं होती हैं। शिंजो आबे पर हमले की खबर से पूरी दुनिया स्तब्ध रह गई।शिंजो आबे पर हमला करनेवाला शख्स उनसे कुछ मीटर की दूरी पर पीछे की तरफ खड़ा था। उसके हाथ में हैंडमेड बूंदक थी जिसे दो पाइप और बोर्ड का इस्तेमाल कर बनाया गया था। हमलावर ने मौका मिलते ही निशाना साधकर शिंजो आबे पर फायरिंग कर दी। उसकी बंदूक से निकली दो गोलियां शिंजो आबे की गर्दन और छाती पर लगीं। खून अत्यधिक बह जाने के कारण हमले के करीब छह घंटे बाद अस्पताल में उन्होंने दम तोड़ दिया। शिंजो का हत्यारा जापान के नेशनल डिफेंस फोर्स का पूर्व सैनिक है। मौके पर मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने तुरंत उसपर काबू पा लिया। पुलिस ने उसके घर पर छापा मारा जहां से हैंडमेड पिस्टल और अन्य विस्फोटक भी बरामद किए गए।शिंजो आबे की मौत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को भारत में राष्ट्रीय शोक दिवस का ऐलान किया। मोदी ने कहा, 'शिंजो आबे के निधन से दुनिया ने एक महान दूरदर्शी खो दिया है, और मैंने एक प्रिय मित्र खो दिया।‘ उन्होंने कहा, आबे भारत-जापान मित्रता के महान समर्थक थे।'माई फ्रेंड, आबे सैन' शीर्षक वाले ब्लॉग में मोदी ने आबे को श्रद्धांजलि अर्पित की और लिखा-'हमलोगों के लिए उनके सबसे महान उपहारों और उनकी सबसे स्थायी विरासत में से एक, जिसके लिए दुनिया हमेशा उनकी ऋणी रहेगी, वह है बदलते समय के साथ चुनौतियों को पहचानने की उनकी दूरदर्शिता और इसका सामना करने के लिए उनका जबरदस्त नेतृत्व।'वे भारत के साथ सिविल न्यूक्लियर एग्रीमेंट को आगे बढ़ाने के लिए दृढ़ थे जबकि उनके देश के लिए यह काफी मुश्किल काम था। भारत में हाईस्पीड रेल के लिए हुए समझौते को बेहद उदार रखने में भी उन्होंने निर्णायक भूमिका निभाई।'प्रधानमंत्री मोदी ने लिखा- 'चाहे Quad हो या ASEAN के नेतृत्व वाला मंच, इंडो पेसिफिक ओशन्स इनिशिएटिव हो या फिर एशिया-अफ्रीका ग्रोथ कॉरिडोर या Coalition for Disaster Resilient Infrastructure, उनके योगदान से इन सभी संगठनों को लाभ पहुंचा है।'इसमें कोई संदेह नहीं है कि आबे की अनुपस्थिति दुनिया भर के राजनीतिक समीकरणों को प्रभावित करेगी, क्योंकि उन्होंने दुनिया में शक्ति संतुलन को फिर से परिभाषित करने के लिए कड़ी मेहनत की थी। आबे का निधन निश्चित रूप से भारत के लिए एक झटका होगा। पीएम मोदी के साथ आबे की मजबूत व्यक्तिगत बॉन्डिंग थी। उन्होंने इसका जिक्र भी किया था कि मोदी के प्रधानमंत्री बनने से वर्षों पहले ही वे कैसे दोस्त बन गए थे।मोदी ने अपने ब्लॉग में लिखा, 'आबे सान के साथ हर मुलाकात मेरे लिए बहुत ज्ञानवर्धक, बहुत ही उत्साहित करने वाला होता था। वह हमेशा नए विचारों से भरे रहते थे। शासन, अर्थव्यवस्था, संस्कृति, विदेश नीति और अन्य मुद्दों पर वे गहरी समझ रखते थे। उनकी बातों ने मुझे गुजरात के आर्थिक विकास को लेकर नई सोच के लिए प्रेरित किया। इतना ही नहीं, उनके सतत सहयोग से गुजरात और जापान के बीच वाइब्रेंट पार्टनरशिप के निर्माण को बड़ी ताकत मिली।पिछले 90 वर्षों में जापान में इस तरह की कोई राजनीतिक हत्या नहीं हुई थी। इससे पहले 1932 में तख्तापलट की कोशिश के दौरान जापान के प्रधानमंत्री की हत्या कर दी गई थी।शिंजो आबे ने जापान द्वारा दिए गए सॉफ्ट लोन के तहत भारत में बुलेट ट्रेन परियोजना शुरू करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उन्होंने चार बार भारत का दौरा किया और दो बार भारतीय संसद को संबोधित किया। उन्होंने इंडो-पैसिफिक पहल की नींव रखी और उन्हें 2021 में भारत सरकार ने पद्म विभूषण से सम्मानित किया।मोदी और शिंजो आबे में काफी समानताएं हैं। एक समानता यह भी है कि दोनों नेताओं को अपने देश के संस्कृति, विरासत और प्राचीन परंपराओं पर गर्व और विश्वास है। मोदी जब प्रधानमंत्री बनने के बाद जापान गए थे तो उन्होंने काशी को क्योटो की तरह बनाने की बात कही थी और शिंजो आबे ने इस काम में मदद का वादा किया था। शिंजो आबे दिसंबर 2015 में भारत के दौरे पर आए तो उन्होंने मोदी के साथ वाराणसी की घाटों का दौरा किया। उन्होंने दशाश्वमेध घाट पर गंगा आरती में भी हिस्सा लिया। वाराणसी में जापान के सहयोग से चल रही परियोजनाओं का जायजा लिया। वाराणसी में रूद्राक्ष कन्वैन्सन सेंटर जापान की मदद से ही बना है।शिंजो आबे के 2015 के भारत दौरे ने भारत और जापान के रिश्तों की मज़बूती की नींव रखी। इसे अगले स्तर पर ले जाने और स्ट्रैटेजिक पार्टनरशिप बनाने का रास्ता खोला। 2016 में जब नरेंद्र मोदी जापान के दौरे पर गए तो दोनों देशों के बीच सिविल न्यूक्लियर डील हुई। हमें यह याद रखना चाहिए कि दुनिया में परमाणु हमले को भुगतने वाले इकलौते देश के तौर पर जापान सख़्ती से एटमी हथियारों का विरोध करता रहा है लेकिन शिंजो आबे ने पुरानी बातों को दरकिनार करते हुए भारत के साथ परमाणु समझौता किया। यह उनकी और मोदी की दोस्ती का ही नतीजा था। जापान ने भारत को एक जिम्मेदार परमाणु शक्ति के रूप में मान्यता दी।शिंजो आबे और मोदी की दोस्ती की गर्मजोशी वर्ष 2017 में उस वक़्त देखने को मिली जब शिंजो आबे चौथी बार भारत के दौरे पर आए। तब पीएम मोदी उन्हें गुजरात ले गए और दोनों नेताओं ने रोड शो किया। यह पहला मौका था जब कोई विदेशी नेता, भारत में रोड शो कर रहा था। दोनों नेता अहमदाबाद की मशहूर सिद्दी सैय्यद मस्जिद देखने गए। इसके बाद उन्होंने अहमदाबाद में साबरमती रिवरफ्रंट पर कुछ वक़्त बिताया था।शिंजो आबे को यकीन था कि इक्कीसवीं सदी में भारत दुनिया की बड़ी ताकत होगा। 2007 में भारत की संसद को संबोधित करते हुए आबे ने कहा था कि जापान और भारत की दोस्ती, दो महासागरों यानी हिंद और प्रशांत महासागरों का मेल है। शिंजो आबे के दिसंबर 2015 के भारत दौरे पर पीएम मोदी और आबे के बीच भारत में जापान की मदद से बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट आगे बढ़ाने पर सहमति बनी। जापान ने एक लाख करोड़ से ज्यादा के इस प्रोजेक्ट के लिए भारत को बेहद रियायती रेट पर लोन दिया। उम्मीद है कि भारत में पहली बुलेट ट्रेन 2026 तक शुरू हो जाएगी।शिंजो आबे ने बहुत पहले ही चीन का ख़तरा भांप लिया था। उन्होंने 2006 में प्रधानमंत्री बनने के बाद चीन के बढ़ते प्रभाव को बैलेंस करने के लिए चार देशों जापान, अमेरिका, भारत, और ऑस्ट्रेलिया को मिलाकर QUAD गठबंधन की वकालत की थी। हालांकि, उस समय मनमोहन सिंह की अगुवाई वाली यूपीए सरकार ने शिंजो आबे के इस आइडिया में कोई ख़ास दिलचस्पी नहीं दिखाई थी।चीन के राष्ट्रवादियों ने सोशल मीडिया पर शिंजो आबे की हत्या का जश्न मनाया। वहां के स्टेट मीडिया कहा कि आबे की नीतियों के प्रति जापानी लोगों में बहुत नाराजगी थी। दरअसल, चीन प्रशांत क्षेत्र में अपना दबदबा बढ़ा रहा था। जापान के सेनकाकू द्वीप पर चीन भी दावा करता रहा है। चीन से बढ़ते ख़तरों के बाद भी, जापान का कोई भी नेता संविधान के दायरे से बाहर जाकर जापान की सेना को ताक़तवर बनाने को तैयार नहीं था। लेकिन शिंजो आबे ने प्रधानमंत्री बनते ही संविधान को दरकिनार करके जापान की डिफेंस फोर्सेज़ को बैलिस्टिक मिसाइलों, लड़ाकू विमानों और जंगी जहाज़ से लैस करने का फैसला किया। चीन की बढ़ती ताकत को बैलेंस करने के लिए ही शिंजो आबे ने भारत, जापान, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के बीच QUAD गठबंधन का आइडिया दिया। शिंजो आबे मानते थे कि चीन से पूरी दुनिया को ख़तरा है इसलिए, जापान को भी अपनी ताक़त बढ़ानी चाहिए।इसमें कोई दो राय नहीं कि शिंजो आबे के निधन से भारत ने अपने एक शुभचिंतक को और नरेंद्र मोदी ने अपने दोस्त को खो दिया। दुनिया ने एक बेहतरीन नेता को खो दिया। शिंजो आबे की बड़ी राजनीतिक विरासत थी। उनके दादा भी जापान के प्रधानमंत्री थे। उनके पिता जापान के वित्त मंत्री रह चुके थे। शिंजो आबे जापान के सबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री थे। वो चार बार जापान के प्रधानमंत्री बने। दूसरे विश्व युद्ध के बाद पैदा होने वाले वे जापान के पहले प्रधानमंत्री थे। भारत के साथ रिश्ते की बात करें तो गणतन्त्र दिवस की परेड में शामिल होने वाले वे जापान के पहले प्रधानमंत्री थे। भारत के दूसरे सबसे बड़े नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से सम्मानित जापान के अकेले प्रधानमंत्री हैं। शिंजो आबे को भारत से प्यार था इसलिए उन्होंने देश के विकास की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी परियोजनाओं का जमकर समर्थन किया।भारत में बुलेट ट्रेन, दिल्ली मेट्रो, करीब डेढ़ हज़ार किलोमीटर लंबे दिल्ली-मुंबई इंडस्ट्रियल कॉरिडोर प्रोजेक्ट, काशी विश्वनाथ प्रोजेक्ट, नॉर्थ ईस्ट के विकास की परियोजनाएं और स्मार्ट सिटीज बनाने के प्रोजेक्ट, ये सब जापान की मदद से चल रहे हैं। यह मदद शिंजो आबे और नरेन्द्र मोदी की पर्सनल कैमिस्ट्री का नतीजा है। शिंजो आबे ने जापान में राजनीतिक स्थिरता दी। वह जापान के ज्यादा लंबे समय तक प्रधानमंत्री रहे। सबसे ज्यादा बार भारत की यात्रा करने वाले जापान के एकमात्र प्रधानमंत्री भी हैं। करीब नौ साल के कार्यकाल में शिंजो आबे चार बार भारत आए। इसीलिए प्रधानमंत्री मोदी ने शिंजो आबे के निधन पर कहा कि दुनिया ने एक बेहतरीन इंसान और भारत ने शुभचिंतक और उन्होंने अपना एक अच्छा दोस्त खो दिया।
2022-10-07 22:02
उद्धरण 3 इमारत
भाजपा ने राजस्थान में हनुमान बेनीवाल से हाथ मिलाया, एक सीट देगी****** ने राजस्थान में हनुमान बेनीवाल की राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (आरएलपी) से गठजोड़ करने की घोषणा गुरुवार को की। इस गठजोड़ के तहत भाजपा राज्य की 25 में से नागौर की एक सीट आरएलपी के लिए छोड़ेगी। इस सीट पर विधायक बेनीवाल खुद चुनाव लड़ेंगे। केंद्रीय मंत्री और पार्टी के चुनाव प्रदेश प्रभारी प्रकाश जावड़ेकर और बेनीवाल ने यहां भाजपा कार्यालय में संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में यह घोषणा की।जावड़ेकर ने बताया कि लोकसभा चुनाव के लिए यह गठजोड़ किया गया है जिसके तहत पार्टी राज्य की नागौर सीट आरएलपी को देगी। बदले में आरएलपी राजस्थान के साथ साथ पड़ोसी हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश व दिल्ली जैसे राज्यों में भाजपा का समर्थन देगी और उसके प्रत्याशियों को जिताने में मदद करेगी।एक सवाल के जवाब में बेनीवाल ने स्वीकार किया कि नागौर की सीट से वह खुद चुनाव लडेंगे। भाजपा ने इस सीट के लिए अभी अपने प्रत्याशी की घोषणा नहीं की है। उल्लेखनीय है कि बेनीवाल कभी भाजपा में ही हुआ करते थे।2008 में वह भाजपा की टिकट से विधायक बने लेकिन 2013 में निर्दलीय के रूप में विधानसभा पहुंचे। पिछले दिसंबर में विधानसभा चुनाव से पहले उन्होंने अपनी पार्टी राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी बनायी जिसने तीन सीटों पर जीत दर्ज की। कुछ दिन पहले तक वह कांग्रेस तथा तीसरे मोर्चे के दलों के साथ मिलकर चुनाव लड़ने की बात कह रहे थे।बेनीवाल ने संवाददाताओं के सवालों के जवाब में कहा कि राष्ट्रहित, किसानों और युवाओं के हितों को ध्यान में रखते हुए उन्होंने भाजपा से हाथ मिलाया है ताकि नरेंद्र मोदी को एक बार फिर प्रधानमंत्री बनाया जा सके।
वापसी